Tips…बादाम खाने का सही तरीका

बादाम खाने का सही तरीका

अक्सर छोटे बच्चों को दिमाग तेज करने के लिए बादाम खिलाए जाते हैं। आपने भी कई बार लोगों को एक दूसरे को यह कहते सुना होगा कि याददाश्त अच्छी करनी है तो रोजाना बादाम खाया करो। बादाम में प्रोटीन, फाइबर, विटमिन ई, कैल्शियम, जिंक जैसे कई पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं। जो शरीर में पहुंचकर उसे अलग-अलग तरह से फायदा पहुंचाते हैं।

आयुर्वेद के मुताबिक, मीठे बादामों का सेवन करना ज्यादा फायदेमंद होता है। गर्म और मीठा बादाम शरीर के वात दोष को शांत करके ऊतकों की मरम्मत करने का काम करता है। इसका रोजाना सेवन करने से त्वचा लंबे समय तक जवां बनी रहती है।

बादाम के छिलके में टैनिन नाम का एक एंजाइम होता है। यह एंजाइम बादाम के पोषक तत्वों को शरीर में पूरी तरह अब्जॉर्ब नहीं होने देता इसलिए बादाम का सेवन हमेशा उसका छिलका उतारने के बाद ही करना चाहिए।

बादाम को पानी में भिगोकर रात भर के लिए रख दें और सुबह छीलकर खा लें। विशेषज्ञों की मानें तो बादाम को खाने का सही तरीका रात में भिगाकर सुबह खाना है। ऐसा करने से सुबह यह नर्म होने के साथ चबाने में आसान भी हो जाता है। इसके अलावा आपके शरीर को भी बादाम पचाने में आसानी होती है। विशेषज्ञों के अनुसार भारत जैसे गर्म देश में एक दिन में 4-5 से ज्यादा बादाम नहीं खाना चाहिए और अगर इसे भिगोकर खाएं तो यह ज्यादा लाभकारी होगा। नियमित रूप से बादाम का सेवन हृदय, मस्तिष्क विकार, त्वचा और बालों को स्वस्थ्य बनाने, मधुमेह, खांसी, सांस-संबंधी समस्या और एनीमिया आदि में फायदेमंद होता है।

रातभर भिगोए हुए बादाम में मोनोसेच्युरेटेड फैट मौजूद होता है जो व्यक्ति के शरीर की चर्बी को कम करने का काम करता है।

बादाम खाने से लिवर कैंसर का खतरा कम होता है क्‍योंकि इसमें विटामिन ई काफी मात्रा में होता है।

बादाम में मौजूद विटामिन ई अधिक उम्र में आंखों और दिल को होने वाले नुकसान से बचाने में भी मददगार होती है।

बादाम का सेवन करने से डायबिटीज से बचाने और कोलेस्‍ट्रोल के स्‍तर को कम करने में भी मदद मिलती है।

भीगे हुए और कच्चा बादाम खाना केवल टेस्ट की ही बात नहीं है बल्कि यह स्वास्थ्यवर्धक भी है।

छिलका सहित खाने से नुकसान….

अगर आप बादाम बिना भिगोए हुए और बिना छीले हुए खाते हैं तो उससे खून में पित्त की मात्रा बढ़ जाती है।

खाली पेट सूखे बादाम खाने से पित्त बढ़ता है और पाचन संबंधी समस्याएं हो जाती हैं।

सूखे बादाम ज्यादा खाने से व्यक्ति को कब्ज, त्वचा रोग, अत्यधिक पसीना या अन्य आंतरिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

Author: admin

A team work for healthy nature & healthy life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *