Remedies For Cleaning Of Liver & Kidney


ड्राई फ्रूट खाना सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है। इसमें विटामिन के साथ और भी बहुत से ऐसे तत्व होते हैं जो सेहत के लिए बहुत जरूरी है। इनमें से किशमिश लीवर और कीडनी के लिेए बहुत फायदेमंद है।

इससे शरीर में जमा विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और खून की कमी भी पूरी होती है। इस बात का ध्यान रखें की इसका इस्तेमाल सर्दीयों के मौसम में करना बेहतर रहता है।
किशमिश को रात को भिगोकर सुबह खाली पेट इसका पानी पीने से लीवर और कीडनी अच्छे से काम करते हैं। इससे लीवर से जुड़ी परेशानी दूर हो जाती है। इससे कोलेस्ट्राल और दिल से जुड़ी समस्या से निजात पाई जा सकती है। इसके सेवन से एसीडिटी भी दूर हो जाती है। इसे बनाने का तरीका बहुत ही आसान है।

आज हम आपको किशमिश और इसके पानी के फ़ायदे बताएँगे जिन्हें आप जान गये तो इसका उपयोग करने से ख़ुद को नही रोक पाएँगे। सूखे मेवे में शामिल किशमिश अंगूर को सुखाकर तैयार किया जाता है। इसमें अंगूर के सभी गुण मौजूद होते है। इसके सेवन से रस, रक्त, कमज़ोरी आदि तथा ओज की मात्रा बढ़ती है जो कि आपकी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होती है।
किशमिश में भरपूर मात्रा में आयरन, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम और फाइबर पाया जाता है। साथ ही इसमें दूध में मौजूद हर तत्व पाया जाता है। अब आप सोच रहे होगे कि किशमिश का पानी हमारे स्वास्थ्य के लिए कैसे फायदेमंद है। तो हम आपको बताते है कि किशमिश का पानी कैसे हमारे लिए फायदेमंद है।

किशमिश का पानी ऐसे करें तैयार

आवश्यक सामग्री :
2 कप पानी
150 ग्राम किशमिश
बनाने की विधि :
सबसे पहले किशमिश को धो लें और एक पैन में पानी उबाल कर इसमें किशमिश डाल कर रात भर भिगोएं। सुबह इसको छान कर हल्का गुनगुना करें और खाली पेट पी लें। इसका सेवन करने के 25-30 मिनट बाद नाश्ता कर लें। यह प्रयोग आप 4-5 दिनों तक लगातार करे। इस तरह आप चाहे तो 2-3 महीने के अंतराल में यह प्रयोग पुनः दोहरा सकते है।

ध्यान में रखें ये बात :
डायबिटीज के रोगी इसके इस्तेमाल से परहेज करें। इसका सेवन एक महीने में सिर्फ चार दिन ही करें और इस दौरान शक्कर का इस्तेमाल थोड़ा कम कर दें।

किशमिश के 10 फायदे
शरीर को शक्तिशाली बनाना : सुबह के समय लगभग 25 से 30 किशमिश को गर्म पानी से धोकर साफ कर लें और फिर इसे कच्चे दूध में डाल दें। आधे या एक घंटे बाद किशमिशों को दूध के साथ गर्म करके खाएं और ऊपर से दूध पी लें। इससे शरीर में खून बढ़ता है, ठंडक दूर होती है, पुरानी बीमारी, अधिक कमजोरी, यकृत/लिवर की खराबी और बदहजमी दूर होती है।
कब्ज : किशमिश 25 ग्राम, मुनक्का 4 पीस, अंजीर 2 पीस और सनाय का चूर्ण चौथाई चम्मच लेकर एक गिलास पानी में भिगो दें। थोड़ी देर बाद सभी को उसी पानी में मसलकर छान लें और इसमें एक कागजी नींबू का रस व 2 चम्मच शहद मिलाकर सुबह खाली पेट सेवन करें। इससे कब्ज दूर होती है।

इन सभी रोगों का आयुर्वेदिक चूर्ण
कोलेस्ट्राल : किशमिश के पानी को रोज पीने से कोलेस्ट्राल के लेवल को ठीक रखता है। जो कि अधिकतर लोगों को अनियमित रूप से खाना खाने के कारण हो जाता है। इसीलिए इसका सेवन करें। साथ ही ये शरीर के ट्राईग्लिसेराइड्स के स्तर को कम करने में मदद भी करता है।
एसिडिटी और थकान : अगर आपको कब्ज, एसिडिटी और थकान की समस्या है तो यह काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। इसका नियमित रूप से सेवन करने से जल्द आपको फायदा नजर आएगा।
लिवर : रोजाना इसके पानी पीने से आपका लिवर भी फिट रहता है और यह मेटाबॉलिज्म के स्तर को नियंत्रित करने में भी सहायक है।
बुखार : अगर आपको बुखार आ रहा है तो इसका सेवन करें। इसमें मौजूद फिनॉलिक पायथोन्यूट्रियंट जो कि जर्मीसाइडल, एंटी बॉयटिक और एंटी ऑक्सीडेंट तत्वों से बुखार छूमंतर हो जाता है।
हृदय की धड़कन :50 ग्राम किशमिश को पानी में मसलकर व उबालकर सेवन करने से हृदय की धड़कपन सामान्य होती है। इससे हृदय को शक्ति मिलती है।
झुर्रियो को हटाये : आप तो यह जानते ही होगे कि किशमिश खाने से आपकी उम्र बढ जाती है, लेकिन इसके साथ ही ये आपकी त्वचा में आई झुर्रियो को भी हटा देती है। इसके लिए इसके पानी को रोज सुबह पीएं। जिससे आप हमेशा जवां रहें।
पाचन और मेटाल्जिम : रोजाना इसके सेवन करने से आपको पाचन, मेटाल्जिम आदि के स्तर को कम रखेगा। जिससे आप हमेशा फिट रहेगे।
ब्लडप्रेशर : चीनी मिट्टी के बर्तन में 20 से 25 किशमिश को 150 मिलीलीटर पानी में रात को भिगोकर रख दें। सुबह किशमिश को खूब चबा-चबाकर खाएं। इससे निम्न रक्तचाप या लो ब्लडप्रेशर में लाभ मिलता है और शरीर पुष्ट होता है।

किशमिश के पानी के लिए सबसे पहले एक पैन में किशमिश को पानी में डालकर अगर 20 मिनट तक उबालें और पानी को रातभर रखने के बाद सुबह इसका सेवन करें तो आपको कई लाभ मिलेगे।

Author: admin

A team work for healthy nature & healthy life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *