Medicinal Use Of Flaxseed

अलसी (फ्लैक्स)

अलसी को इंग्लिश में फ्लैक्ससीड (flaxseed) कहा जाता है और इसे तीसी के नाम से भी जाना जाता है।यह स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है और लोग वर्षों से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट से संबंधित कई स्थितियों के लिए अलसी का उपयोग करते आ रहे हैं, जिनमें कब्ज, जुलाब के कारण पेट ख़राब होना, दस्त, बड़ी आंत की अस्तर की सूजन (डायवर्टीकुलिटिस), इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम (IBS) या इर्रिटेबल कोलन शामिल हैं| इसके अलावा बड़ी आंत (अल्सरेटिव कोलाइटिस) की परत, पेट की परत (गैस्ट्र्रिटिस), और छोटी आंत (एंटराइटिस) की सूजन- इन सभी रोगों के इलाज के लिए अलसी के बीज खाए जाते हैं।

फ्लेक्ससीड का उपयोग हृदय और रक्त वाहिकाओं के विकारों के लिए भी किया जाता है, जिसमें उच्च कोलेस्ट्रॉल, “धमनियों का सख्त होना” (एथेरोस्क्लेरोसिस), उच्च रक्तचाप और कोरोनरी धमनी रोग शामिल हैं।

फ्लैक्ससीड का उपयोग मुहांसों और अटेंशन डेफिसिट ह्यपेरेक्टिवित्य डिसऑर्डर के लिए भी किया जाता है| रजोनिवृत्ति (MENOPAUSE) के लक्षण, महिलाओं में स्तन का दर्द और गुर्दे की बीमारी की समस्या के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। यह डायबिटीज , वजन घटाने, एचआईवी / एड्स, अवसाद, मूत्राशय के संक्रमण, मलेरिया और संधिशोथ के लिए भी उपयोग किया जाता है।

अन्य उपयोगों में गले में खराश, सांस की तकलीफ, और खांसी के उपचार शामिल हैं।
कुछ लोग कमजोर हड्डियों (ऑस्टियोपोरोसिस), स्तन कैंसर, फेफड़ों के कैंसर, पेट के कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर की उपाय के लिए भी अलसी का उपयोग करते हैं।

फ्लेक्ससीड में फाइबर और ओमेगा -3 फैटी एसिड की अच्छी मात्रा मौजूद होती है। अगर अलसी के बीज भोजन से पहले खाए जाएँ तो इसमें मौजूद फाइबर से लोगों को कम भूख लगती है।

Author: admin

A team work for healthy nature & healthy life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *