Medicinal Use Of Carom Seeds

अजवाइन

अजवाइन एक ऐसी चीज़ है जो आमतौर पर हमारे रसोईघरों में उपलब्ध होती है। अजवाइन को संस्कृत में उग्रगन्धा भी कहा जाता है। अजवाइन खाने का स्वाद तो बढ़ाता ही है, और साथ ही साथ ये सेहत के लिए भी उतना ही लाभदायक है। अजवाइन को एक लोकप्रिय पाचन के रूप में प्रयोग किया जाता है, अक्सर पेट खराब या अधिक खाने के मामलों में लोगों को अजवाइन दिया जाता है। पेट की विभिन्न बीमारियों जैसे पेट का फूलना, अपचन,दस्त आदि के इलाज के लिए यह एक सदियों पुरानी दवा है। अजवाइन में 11.9 प्रतिशत डाइटरी फाइबर, 38.6 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट्, 8.9 प्रतिशत मॉइस्चर, 15.4 प्रतिशत प्रोटीन, 18.1 प्रतिशत फैट्स होते हैं। इसके अलावा इसमें 7.1 प्रतिशत मिनरल्स पाए जाते हैं जैसे – फॉस्फोरस, कैल्शियम, आयरन और निकोटिनिक एसिड आदि।

अजवाइन के स्‍वास्‍थ्‍य लाभों में पेट के दर्द, ऐंठन, आंत्र की गैस, अपच, उल्टी, दस्त, साँस लेने में परेशानी और पेट का भारीपन, स्पर्म की कमी को दूर करने वाली, वीर्य को बढ़ाने वाली, दिल के लिए फायदेमंद, कफ को दूर करने वाली, गर्भाशय को उत्तेजना देने वाली, बुखार को दूर करने वाली, उल्टी, पेट के रोग, जोड़ो मे दर्द इन सब समस्याओं को दूर करने वाली एक बहुत ही अच्छी औषधि है। जो विभिन्न स्वास्थ्य स्थितियों के लिए यह एक सामान्य घरेलू उपाय है। यह दस्‍त, कब्‍ज, किड़नी की समस्‍या, सर्दी, खुजली, यौन कमजोरी, मासिक धर्म की परेशानियों आदि को भी ठीक कर सकती है।

अजवाइन दर्द की रामबाण औषधी

यह प्रमाणित हो चुका है कि, अजवाईन में दर्द नाशक गुण होते हैं! यह कान के दर्द के इलाज में भी लाभदायक है। अजवाईन को थोड़ी देर तक दूध के साथ उबालें और ठंडा कर लें! आप इसका प्रयोग Ear Drop की तरह कर सकते हैं ! यह कान में जमाव को कम कर के कान का दर्द दूर करने में मदद करेगा। अजवाईन दांत-दर्द में भी मदद कर सकता है। अजवाईन और हल्दी को पानी में बराबर मात्रा में लें! इसे उबालें और ठंडा कर लें! इस पानी से4से 5बार कुल्ला करें! इससे आपके दांतो का दर्द काफी मात्रा में कम हो सकता है !

अजवाइन में Bacteria और Fungi नाशक गुण

अजवाइन में डी-वर्मिंग गुण हैं। अजवाइन में पाए जाने वाले Thymol और Carvacrol जैसे सत्व Escherichia coli और Salmonella जैसे हानिकारक बैक्टीरिया के विकास को रोकते हैं। यह वही बेक्टीरिया हैं जो पेट से जुड़े विभिन्न विकारों को जन्म देते हैं ! इससे बचने के लिए अजवायन का एक चम्मच चूर्ण रातभर पानी में भिगो दें। पानी को उबालें और ठंडा करें। रोज़ सुबह उठने के बाद और रात में सोने से पहले इसका सेवन करें।

अजवाइन और सर्दी खांसी

जीवाणुरोधी गुण होने के अलावा, अजवाइन सर्दी, खांसी, जकड़न(coughing) में भी बेहद फायदेमंद है! जकड़न (coughing) में अजवाइन का प्रयोग बंद नाक, और सांस लेने में होने वाली दिक्कतों से आपको छुटकारा दिला सकता है और काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

अजवाइन और जोड़ों का दर्द (Arthritis)

अजवाइन में थाइमोल होता है, जिसमें गर्मी के गुण होते हैं जो जोड़ों के बीच भरे हुए विषाक्त पदार्थों को हटाते हैं।अगर आप गठिया के दर्द से ग्रस्त हैं तो, एक बर्तन में थोड़ा पानी लें और उसमें थोड़ा सा अजवायन और नमक मिलाएं। इस पानी को उबालें और फिर आग से उतार लें। इसे थोड़ा ठंडा होने दें और फिर एक तौलिया लें और इसे इस पानी में डुबोएं। इसे निचोड़ें और इस गर्म तौलिया को दर्द वाले स्थान पर लगाएं। ऐसा कुछ समय के लिए बार-बार करें। इससे गठिया के दर्द में आराम मिलेगा।

अजवाइन और मोटापा

आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी में संतुलित आहार की कमी के कारण मोटापा काफी आम सी बात हो गयी है! मोटापा अपने आप में आज किसी बीमारी से कम नहीं ! कई बार हजार जतन करने के बाद भी लोग मोटापे से अपना पीछा नहीं छुड़ा पाते है! ऐसे में अजवाइन आपके काम आ सकता है! ! अगर आप भी मोटापे से जूंझ रहे हैं और वजन घटना चाहते है, तो व्यायाम,और संतुलित आहार के साथ आप अजवाइन के पानी का उपयोग कर सकते हैं !

यौन कमजोरी को दूर करने में लाभदायक

आयुर्वेद के अनुसार अजवाइन के बीज का सेवन यौन कमजोरी को दूर करने में मदद कर सकता है। जो लोग यौन कमजोरी का समना करते हैं उनके लिए यह एक प्रभावी औषधी है। इसके लिए आपको अजवाइन के बीज और कुछ इमली के बीजों को शुद्ध मक्खन में भूनना है। इसके बाद इस मिश्रण को पीस कर एक पाउडर बना लें। इस मिश्रण की 1 चम्‍मच मात्रा 1 गिलास दूध और शहद के साथ नियमित रूप से सेवन करें। यह आपकी यौन इच्‍छा में कमी को दूर कर यौन स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ाने में मदद करता है। अच्‍छे परिणाम प्राप्‍त करने के लिए आप इसे प्रतिदिन रात में सोने से पहले सेवन करें।

मासिक धर्म में अधिक दर्द में लाभदायक

अगर मासिक धर्म में अधिक दर्द होता हो तो 4 चम्मच कच्ची अजवाइन और 2 चम्मच सेंधा नमक पीसकर, मिलाकर मासिक धर्म के दिनों में आधा-आधा चम्मच तीन बार रोजाना लें। दर्द बंद होने पर इसे लेना छोड़ दें।

अजवाइन के लाभ स्‍तनपान के लिए

जो महिलाएं स्‍तनपान करा रही हैं उनके लिए अजवाइन का उपयोग फायदेमंद होता है। अजवाइन का उपयोग स्‍तनपान कराने वाली महिलाओं में दूध उत्‍पादन की क्षमता को बढ़ाने में सहायक होते हैं। इसके लिए उन्‍हें अजवाइन और सौंफ के बीज को पानी में मिलाकर सेवन करना चाहिए। इसके लिए वे 1 चम्‍मच सौंफ और 1 चम्‍मच अजवाइन को रात में 1 गिलास पानी में भिगों दें और फिर अगली सुबह इसका सेवन करें। यह मिश्रण गर्भाशय को साफ करने और दूध उत्‍पादन को बढ़ाने में सहायक होता है। इस तरह से स्‍तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए अजवाइन के औषधीय गुण लाभकारी होते हैं।

अजवाइन और नींबू के फायदे पेट के लिए

पेट संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए प्राचीन समय से ही अजवाइन का उपयोग किया जा रहा है। आप पेट से संबंधित समस्‍याओं को दूर करने के लिए 3 चम्‍मच अजवाइन के बीजों को नींबू के रस में मिलाकर छाया में सुखा लें। जब ये बीज अच्‍छी तरह से सूख जाएं तो आप इन्‍हें पीस कर पाउडर बना लें। इसमें आप अपने स्‍वादानुसार थोड़ा सा काला नमक मिला दें। इसे दिन में दो बार गुनगुने पानी के साथ सेवन करें। इस औषधी का सेवन कर आप भूख की कमी, पेट फूलना और अन्‍य पेट की समस्‍याओं को दूर करने में सहायक होता है। इस तरह से आप अपने पेट को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए अजवाइन और नींबू का उपयोग कर सकते हैं।

अजवाइन और गुड़ के फायदे सर्दी के उपाय

सर्दी होना शरीर की अशुद्धियों को साफ करने के लिए अच्‍छा है। लेकिन यह आपके स्‍वास्‍थ्‍य और व्‍यक्तिगत जीवन में परेशानियों का भी कारण बन सकती है। लेकिन आप अजवाइन का उपयोग कर सामान्‍य सर्दी के लक्षणों को दूर कर सकते हैं। अजवाइन का उपयोग सर्दी के दौरान आने वाली बलगम को आसानी से साफ कर नाक की रूकावट से बचा सकता है। इसके लिए आपको अजवाइन के बीज और गुड़ को गर्म करें। इस मिश्रण को प्रतिदिन दो बार 2-2 चम्‍मच सेवन करें। यह आपकी सर्दी और स्‍वांश संबंधी समस्‍याओं को प्रभावी रूप से दूर कर सकती है।

सर्दी में नाक बंद होने पर अजवाइन के फायदे

अजवाइन में तेल होता हैं जो नाक में जमे बैक्टीरिया को ख़त्म कर देता है। बैक्टीरिया के ख़त्म हो जाने पर नाक खुल जाती हैं। सर्दी में नाक बंद होने पर अजवाइन का इस्तेमाल करने के लिए किसी बर्तन में पानी और तीन चम्मच अजवाइन डालकर उबालें। जब भाप निकलने लगे तब तौलिए से सिर ढककर मुंह को बर्तन के पास जितनी गर्मी सहन हो, उतनी दुरी पर रखें। भाप को नाक से सांस लेते हुए खींचें और मुंह खोलकर सांस बाहर निकालें इस तरह भाप में सांस लेने से नाक खुल जायेगी। और सर्दी के कारण होने वाला सिरदर्द या साइनस का दर्द भी ठीक हो जायेगा।

अजवाइन का प्रयोग दांत और कान दर्द के लिए

कान और दांत में होने वाला दर्द बहुत ही कष्‍टदायक होता है। आप इस प्रकार के दर्द को दूर करने के लिए अजवाइन का फायदेमंद उपयोग कर सकते हैं। इस समस्‍या से बचने के लिए अजवाइन तेल की 2 बूंदें ही काफी हैं। दांत के दर्द का उपचार करने के लिए 1 चम्‍मच अजवाइन और नमक के पानी से कुल्‍ला करने से लाभ मिल सकता है। इसके अलावा आप दर्द से छुटकारा पाने के लिए अजवाइन को जलाएं और इसका धुआं मुंह में लें। यह दांत दर्द का प्रभावी इलाज है इसके अलावा आप अजवाइन के पानी का उपयोग माउथ वॉश के रूप में भी कर सकते हैं।

अजवाइन का इस्‍तेमाल घाव उपचार में

यदि आप किसी चोट या घाव का इलाज करना चाहते हैं तो अजवाइन आपकी मदद कर सकती है। अजवाइन के बीज में थाइमोल नामक एक घटक मौजूद रहता है जो एक कवकनाशी और रोगाणुनाशक का काम करता है। अजवाइन का उपयोग आप त्‍वचा संक्रमण को दूर करने के लिए भी कर सकते हैं। इसके लिए आप अजवाइन के बीजों को कुचल कर त्‍वचा में लगाएं। यह आपके घावों को आसानी से ठीक करने में मदद करता है। इस तरह से आप अजवाइन का उपयोग घावों को ठीक करने के लिए कर सकते हैं।

अजवाइन के लाभ शराब की आदत छुड़ाने के लिए

जब भी शराब पीने को मन करे, चुटकी भर अजवाइन चबाएं जब तक शराब पीने की इच्छा समाप्त नहीं हो जाये, अजवाइन चबाते रहे और इसका रस चूसते रहे, कुछ दिन ऐसा करने से शराब की आदत छूट जाएगी।

अजवाइन के फायदे बालों के लिए

अधिकांश लोग अपने बालों को लेकर बहुत ही परेशान रहते हैं। अजवाइन के बीज बालों की समस्‍याओं को दूर करने में प्रभावी माने जाते हैं। विशेष रूप से यह समय से पहले ही बालों को भूरा होने से बचा सकते हैं। अजवाइन का उपयोग बालों में करने के लिए आप एक कप पानी में करी पत्‍ता, किशमिश, चीनी और अजवाइन के बीज मिलाकर उबालें। इस‍ अच्‍छी तरह पकने के बाद आप इस मिश्रण को ठंडा करें और और अपने बालों में लगाएं। इसके अलावा बालों को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए आप नियमित रूप से प्रतिदिन 1 गिलास अजवाइन के पानी का भी सेवन कर सकते हैं।

चेहरे को सुंदर बनाने के लिए अजवाइन का उपयोग

आप अपने चेहरे को सुंदर बनाने के लिए अजवाइन का उपयोग कर सकते हैं। अजवाइन विशेष रूप से मुंहासों के निशान को दूर करने में सहायक होता है। मुंहसों के दाग हटाने के लिए आप अजवाइन के पाउडर का पेस्‍ट बनाएं और प्रभावित क्षेत्र में 10 से 15 मिनिट के लिए लगाएं। इसके बाद आप इसे सामान्‍य पानी से धो लें। नियमित रूप से उपयोग करने पर यह कुछ ही दिनों में मुंहासों के निशान से आपको छुटकारा दिला सकता है।

अजवाइन का लेप गठिया का उपचार

औषधीय गुणों से भरपूर अजवाइन गठिया का इलाज करने में सहायक होता है। अजवाइन में 2 प्रकार के विशेष गुण होते हैं जो उन्‍हें गठिया के प्रभाव करने में सक्षम बनाते हैं। अजवाइन में एंटीबायोटिक गुण होते हैं जो लालिमा को कम करते हैं और सूजन से राहत दिलाते हैं। दूसरा गुण संवेदनहारी गुण है जो दर्द और सूजन दोनों से राहत दिलाते हैं। आप गठिया के घरेलू इलाज के लिए अजवाइन का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप अजवाइन के बीजों को पीस कर पाउडर बना लें। इस पाउडर को पानी में मिलाकर पेस्‍ट बनायें और अपने जोड़ों में लगाएं। विकल्‍प के रूप में आप टब में अजवाइन बीज डालें और अच्‍छी तरह से बीजों के फूलने के बाद अपने जोड़ों को टब में ड़बोएं। यह गठिया के दर्द और सूजन दोनो से राहत दिलाने में मदद करता है।

अजवाइन और जीरा पेट की गैस की दवा

पेट में गैस बनना आमतौर पर सामान्‍य जीवन को प्रभावित करता है। इसका उपचार करने के लिए अजवाइन का प्रयोग फायदेमंद होता है। इसके लिए आप 1 चम्‍मच अजवाइन बीज और 1 चम्‍मच जीरा को मिलाएं। नियमित रूप से अदरक पाउडर के साथ इस मिश्रण का सेवन करने से आपको पेट की गैस से राहत मिल सकती है। यह प्राकृतिक उपचार अपच से संबंधित सभी प्रकार की समस्‍याओं को दूर करने का सबसे अच्‍छा तरीका है। आप भी अजवाइन और जीरा के लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

अजवाइन की चाय से अस्‍थमा का इलाज करें

अस्‍थमा के लक्षणों को कम करने के लिए अजवाइन की चाय का सेवन करें। प्रभावी तरीके से अजवाइन की चाय अस्‍थमा का इलाज कर सकती है। इसके लिए आप 1 कप पानी में अजवाइन के कुछ बीज लें और इसे उबालें। इसके बाद इसे छानकर इसका सेवन करें। अतिरिक्‍त स्‍वाद और लाभ बढ़ाने के लिए आप इसमें शहद भी शामिल कर सकते हैं। यह तुरंत ही सर्दी से राहत दिलाने में भी सहायक होती है। यह ब्रोंकाइटिस और अस्‍थमा के इलाज में बहुत ही फायदेमंद होती है। इस तरह से आप अस्‍थमा का घरेलू उपचार करने के लिए अजवाइन की चाय का उपयोग कर सकते हैं।

अजवाइन है खुजली के लिएफायदेमंद

खुजली और एक्जिमा जैसी समस्‍याओं से बचने के लिए अजवाइन का पेस्‍ट फायदेमंद होता है। अजवाइन का पेस्‍ट बनाने के लिए गुनगुने पानी के साथ अजवाइन को पीस लें। इस पेस्‍ट को चेहरे या शरीर के किसी भी प्रभावित हिस्‍से में लगाएं। यह आपको त्‍वचा की खुजली और अन्‍य त्‍वचा संक्रमण से बचाने में सहायक होता है। इसके अलावा आप अजवाइन के पानी से भी प्रभावित क्षेत्र को धुल सकते हैं। खुजली या एक्जिमा की सूजन दूर करने के लिए आप अवाइन पाउडर और नींबू के रस को प्रभावित क्षेत्र में लगाएं। यह खुजली से होने वाली सूजन को दूर करने का सबसे अच्‍छा तरीका है।

अजवाइन का पानी बनाने की विधि-

2 चम्मच भुने हुए अजवाइन को 200ml पानी में भिगोयें और रात भर के लिए छोड़ दे। अगली सुबह इस पानी को उबाल लें और छान लें। फिर इस पानी को ठंडा कर ले और खाली पेट सुबह सुबह इसका सेवन करें। अजवाइन का सेवन फायदेमंद है और इसका पानी पीने से काफी स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां दूर हो सकती हैं।

सुबह सुबह अजवाइन का पानी पीने के फायदे

  • रोज़ाना अगर खाली पेट अजवाइन के पानी का सेवन किया जाए तो धीरे धीरे डायबिटीज की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।
  • एसिडिटी की समस्या बहुत आम है। एसिडिटी वो अवस्था होती है, जिसमे अत्यधिक मात्रा में पेट में एसिड या अम्ल का स्त्राव होता है। एसिडिटी की वजह से उदर में जलन या फिर खट्टी डकार आने की समस्या हो सकती है। अजवाइन का पानी एसिडिटी में काफी फायदेमंद है।
  • अजवायन का पानी सर्दी और कफ की समस्या से निजात दिलाने में सक्षम है।
  • अजवाइन का पानी पाचन तंत्र के लिए भी काफी फायदेमंद है। अजवाइन का पानी पीने से वजन घटाने में काफी मदद मिलती है क्योंकि यह शरीर के मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है।
  • अजवाइन का पानी दाँतो में होने वाले दर्द से भी निजात दिलाने में काफी कारगर है। अजवाइन के पानी से कुर्ले करने से दर्द से राहत मिलती है, क्योंकि इसमें थायमोल मौजूद होता है।
  • अजवाइन में नियासिन और थायमोल भरपूर मात्रा में होते हैं और साथ ही साथ कई विटामिन्स भी पाए जाते हैं जो हृदय को स्वस्थ बनाए रखते हैं। अजवाइन ब्लड सर्कुलेशन को भी बेहतर बनाता है जो हृदय के लिए अच्छा है।
  • अजवाइन का पानी डाईरिया में भी काफी कारगर है। अजवाइन के पानी का सेवन दिन में दो बार टॉनिक की तरह किया जा सकता है। इससे काफी राहत मिलती है।
  • जिन लोगों को हमेशा सिरदर्द की शिकायत रहती है उनके लिए अजवाइन के पानी का सेवन लाभदायक है।
  • अगर पेट में कीड़े होने की समस्या से परेशान हैं तो अजवाइन के पानी का सेवन कारगर है।
  • किडनी में स्टोन होने की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए भी अजवाइन के पानी का सेवन काफी लाभप्रद है।

अजवाइन की खुराक

अजवाइन एक औषधी है जिसका सेवन हमें औषधी के अनुसार ही करना चाहिए।क्‍योंकि अधिक या कम मात्रा में सेवन करने से हमें पर्याप्‍त लाभ प्राप्‍त नहीं हो पाते हैं।इसके लिए हमें निश्चित मात्रा में अजवाइन का सेवन करना चाहिए।सामान्‍य रूप से स्‍वस्‍थ व्‍यक्ति को प्रतिदिन 1 से 3 ग्राम अजवाइन का सेवन करना चाहिए।
यदि चिकित्‍सीय खुराक ली जा रही है तो अजवाइन की मात्रा 2 से 4 ग्राम प्रतिदिन होनी चाहिए।
यदि आप अजवाइन के पानी का सेवन करते हैं तो इसकी मात्रा 10 से 100 मिली ग्रा. प्रतिदिन होना चाहिए।

कुछ विशेष स्थितियों में अजवाइन के दुष्‍प्रभाव भी हो सकते हैं-

गर्भवती महिलाओं को अजवाइन का अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए। क्‍योंकि ऐसा माना जाता है कि गर्म तासीर होने के कारण यह गर्भापात का कारण बन सकती है।
बच्‍चों के लिए अजवाइन की सही खुराक निश्चित नहीं की जा सकती है। लेकिन फिर भी आपको सलाह दी जाती है कि बच्‍चों को भी बहुत ही कम या नियंत्रित मात्रा में अजवाइन का सेवन करना च‍ाहिए।
यदि आप खून को पतला करने संबंधी दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो इस दौरान अजवाइन का सेवन न करें। यह आपके रक्‍त को और अधिक पतला बना सकता है।
थाइमोल की अच्‍छी मात्रा होने के कारण कुछ लोगों को अजवाइन का सेवन करने या उपयोग करने से त्‍वचा में जलन, खुजली या चकते आदि की समस्‍या हो सकती है।
अधिक मात्रा में अजवाइन का सेवन करने से चक्‍कर आना, उल्‍टी और मतली आदि की परेशानी भी हो सकती है।
कुछ लोगों को अजवाइन का अधिक मात्रा में सेवन पेट दर्द, मुंह के छाले और जलन आदि का अनुभव करा सकता है।सामान्‍य रूप से अजवाइन का सेवन करने पर यह सुरक्षित है।

Author: admin

A team work for healthy nature & healthy life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *