Benefits OF “Jamun”

जामुन निस्संदेह मधुमेह के लिए सबसे अच्छे प्राकृतिक उपचारों में से एक है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसके बीज कई स्वास्थ्य लाभों से भरे होते हैं। यह मधुमेह के प्रबंधन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए प्राकृतिक तरीके से हानिकारक रसायनों को शरीर से बाहर निकालने में मदद करते हैं। जामुन के बीज स्वस्थ यौगिकों से भरे हुए हैं। तो इससे पहले कि आप फल को खाने के बाद इसके बीज को फेंक दें, यहां हम आपको जामुन के बीज के फायदों के बारे में बता रहे हैं।

मधुमेह को नियंत्रित करें:
फल की तरह ही जामुन के बीज भी मधुमेह विरोधी गतिविधि में हिस्‍सा लेते हैं। बीज में एल्कलॉइड होते हैं, यह रसायन जो शर्करा में स्टार्च के रूपांतरण को रोकते हैं और इसलिए आपके रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखने में सहायता करते हैं। सूखे बीज को पाउडर में बनाया जाता है और मधुमेह के उपचार में दिन में तीन बार लिया जाता है। यह दूध या पानी के साथ सुबह-सुबह पहले आहार के रूप में ले सकते हैं। जामुन के बीज पारंपरिक चिकित्सा में भी एक प्रभावी चिकित्सा के रूप में प्रयोग किया जाता है।

रक्तचाप को कम करता है:
ब्‍लड शुगर यानी रक्‍त शर्करा को कम करने के साथ जामुन के बीज रक्तचाप यानी ब्‍लड प्रेशर को भी कम करने में मदद करते हैं। एशियन स्पेसिफिक जर्नल ऑफ ट्रॉपिकल बायोमेडिसिन में प्रकाशित एक अध्ययन, जामुन के बीज का नियमित रूप से अर्क पीने वाले लोगों में रक्तचाप को 34.6% तक कम पाया गया। एंटी-हाइपरटेंसिव प्रभाव को एलेजिक एसिड की उपस्थिति के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था, जो एक फिनोल एंटीऑक्सिडेंट है।

शरीर को डिटॉक्सीफाई करता है:
जामुन के बीज में फ्लेवोनोइड, एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध होता है, जो न केवल शरीर से हानिकारक मुक्त कणों को फ्लश करने में मदद करता है बल्कि एंटीऑक्सिडेंट एंजाइमों पर एक सुरक्षात्मक प्रभाव डालता है। यही कारण है कि, बीजों को डिटॉक्सिफिकेशन में सहायता करने और प्रतिरक्षा प्रणाली के समग्र कामकाज में सुधार करने के लिए जाना जाता है। बीजों में उच्च मात्रा में फेनोलिक यौगिक होते हैं, जिन्हें शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट गतिविधि के लिए जाना जाता है।

पेट की समस्याएं:
न केवल प्रतिरक्षा प्रणाली और अग्नाशय प्रणाली, बल्कि जामुन के बीज भी पाचन तंत्र को सही करने और पेट की आम समस्याओं के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। बीज के अर्क का उपयोग आंत और जननांग पथ के घावों और अल्सर के इलाज के लिए किया जाता है (जो कैंडिडा अल्बिकन्स से संक्रमित होते हैं)। पीसे हुए बीजों को चीनी के साथ मिलाया जाता है और पेचिश के उपचार के लिए प्रतिदिन 2 से 3 बार दिया जाता है।

जामुन के बीज के अन्‍य लाभ
जामुन के बीज का चूर्ण एक-एक चम्मच दिन में दो-तीन बार लेने से पेचिश में आराम मिलता है।
रक्तप्रदर की समस्या होने पर जामुन के बीज के चूर्ण में 25 प्रतिशत पीपल की छाल का चूर्ण मिलाकर, दिन में 2 से 3 बार एक चम्मच की मात्रा में ठंडे पानी से लेने से लाभ मिलता है।
दांत और मसूड़ों से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए जामुन फायदेमंद होता है। जामुन के बीज को पीसकर, इससे मंजन करने से दांत और मसूड़े स्वस्थ रहते हैं।
अगर आपका बच्चा बिस्तर गीला करता है तो जामुन के बीज को पीसकर आधा-आधा चम्मच दिन में दो बार पानी के साथ पिलाने से लाभ मिलता है।
जामुन के बीज का सेवन करने से पहले आप किसी आयुर्वेदिक चिकित्‍सक की सलाह जरूर लें।
जामुन के बीज का पाउडर कैसे बनाएं
जामुन के बीज को अच्‍छी तरह से धो लें और सुखा लें।
जामुन के बीज पिस्‍ते की तरह दिखाई देते हैं।
सुखने के बाद जामुन के बीज को पीसना थोड़ा मुश्किल हो जाता है, इसलिए इसे छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ दें।
इसे रोजाना 1 चम्मच की मात्रा में सुबह खाली पेट गुनगुना पानी के साथ सेवन करें।

Author: admin

A team work for healthy nature & healthy life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *