04-साइनस का उपचार

साइनस रोग क्या हैं-

नाक की हड्डी भी बढ़ जाती है या तिरछी हो जाती है, जिसकी वजह से सांस लेने में परेशानी होती है। जो व्यक्ति इस रोग से ग्रसित होता है उसे ठंडी हवा, धूल, धुआं आदि में परेशानी महसूस होती है।

साइनस दरअसल मानव शरीर की खोपड़ी में हवा भरी हुई कैविटी होती है, जो हमारे सिर को हल्कापन व श्वास वाली हवा लाने में मद्द करती है।

श्वास लेने में अंदर आने वाली हवा इस थैली से होकर फेफड़ों तक जाती है। यह थैली, हवा के साथ आई गंदगी यानि धूल और दूसरी तरह की गंदगियों को रोकती है।

जब व्यक्ति के साइनस का मार्ग रूक जाता है, तो बलगम निकलने का मार्ग भी रूक जाता है, जिससे साइनोसाइटिस नामक बीमारी होती है।

साइनस का संक्रमण होने पर इसकी झिल्ली में सूजन आ जाती है, जिसके कारण झिल्ली में जो हवा भरी होती है उसमें मवाद या बलगम आदि भर जाता है और साइनस बंद हो जाते हैं। ऐसा होने पर मरीज को परेशानी होनी लगती है।


इस बीमारी का मुख्य कारण झिल्ली में सूजन का आना है। यह सूजन निम्न कारणों से आ सकती है –
– ठंडी चीज़ें खाने से
– बंद कमरों में न रहना; खुली हवा न मिलना
– कब्ज़ की शिकायत रहना
– खानपान की गलत आदतें
-बैक्टीरिया
– फंगल संक्रमण
-या फिर नाक की हड्डी का ढ़ेडा होना।

साइनस के लक्षण
साइनुसाइटस के लक्षण आंख और माथे पर महसूस होते हैं।

– माथे और गालों पर भारीपन रहता है
– आंखें भारी-भारी रहती हैं
– थकान जल्दी होती है
– नाक से हरे और पीले रंग के रेशे गिरते हैं
– ज़ुकाम से नाक बंद हो जाती है
– सिर में दर्द रहता है
– पलकों के ऊपर दर्द रहता है
– हल्का-हल्का बुखार हो सकता है
– चेहरे पर सूजन रहती है

साइनस का घरेलू उपचार

– नारियल पानी पोटैशियम का प्रचुर स्रोत है। इसके सेवन से शरीर डि-टॉक्स होता है, यानि शरीर की गंदगी बाहर निकलती है। जिससे साइनस की बीमारी ख़त्म होती है।

– नाक से बलगम आने और आंखों पर भारीपन महसूस हो तो हल्के हाथों से जैतून के तेल से मालिश करनी चाहिए।

– गाजर, पालक और चुकंदर का जूस पीने से भी साइनुसाइटस में आराम आता है।

– शहद में तुलसी या अदरस का रस मिलाकर सेवन करने से साइनस से छुटकारा मिलता है।

– हॉट वॉटर बोतल में गर्म पानी भरकर सिर, आंखों, चेहरे और गले की सिंकाई करने से साइनस में आराम मिलता है।

– स्टीम बॉथ और तौलिए से चेहरे पर भाप लेने से भी आराम पहुंचता है।

– काले जीरे की बीज कपड़े में बांधकर सूँघने से साइनस में राहत मिलती है।

– साइनस हो तो गुनगुना पानी और गर्म सूप का सेवन करना चाहिए। नॉनवेज खाते हैं तो चिकन सूप पीजिए। इससे गले और नाक में भरा हुआ बलगम बाहर निकल जाता है।

– नाक से पानी ज़्यादा आए तो प्याज के रस की कुछ बूँदें नाक में डालें। इससे नाक का बहना और सिर दर्द से छुटकारा मिल जाएगा।

– लाल मिर्च और काली मिर्च का सेवन करने पर भी बंद नाक खुल जाती है।

– वेजिटेबल ऑयल और सूखे मेवों में विटामिन ई होता है, जिससे साइनस की बीमारी दूर रहती है।

– एक कप पानी में एक चम्मच मेथी दाना डालकर उबालें। इसके बाद ठंडा करके छानकर पी लें। कुछ दिन यह उपाय लगातार करने से आपको साइनस की बीमारी में आराम मिलता है।

– तुलसी के पत्ते, अदरक, छोटी सौंफ, मुलेठी, पुदीना और सौंफ का बना काढ़ा पीने से साइनस के लक्षण खत्म हो जाते हैं।

साइनुसाइटस का रामबाण इलाज
साइनस ही नहीं, नज़ला-ज़ुकाम, नाक की हड्डी बढ़ना, छींके आना, सिर दर्द रहना, इन सभी परेशानियों का रामबाण इलाज घर पर बिना दवा खाए किया जा सकता है।

देशी गाय का घी गुनगुना करके रात में सोने से पहले दोनों नाक छिद्रों में डालें।

प्रयोग विधि – पहले नासिका छिद्र में घी डालते समय दूसरे छिद्र को उंगली से बंद कर लें। घी डालने के बाद धीरे से सांस लीजिए। इसी तरह दूसरी नाक छिद्र में इस उपाय को दोहराएं।

सावधानी – इस उपाय को करते समय तकिए का प्रयोग और बातचीत न करें। इस प्रयोग को करने के 15 मिनट बाद आप तकिए का प्रयोग कर सकते हैं। नाक से जुड़ी बीमारी हो या फिर माइग्रेन के कारण सिर दर्द रहता हो, इस नुस्खे का प्रयोग लाभदायक होता है।

साइनस के लिए योग
साइनस संक्रमण का उपचार करने के लिए योग भी किया जा सकता है। योग के माध्यम से सांस को अलग अलग तरीकों से कंट्रोल कर सकते हैं। खुली हवा में योग करने से शुद्ध हवा मिलती है। अगर साइनस की समस्या का इलाज लम्बे समय से कर रहे हैं और फ़ायदा नहीं मिल रहा है तो योग सीखकर नियमित रूप से कीजिए।

प्राणायाम में भ्रमरी और अनुलोम-विलोम; क्रियाओं में सूत्र नेती और जल नेती तथा आसानों में ब्रह्म मुद्रा और सिंहासन से आराम मिलता है। बिना सीखे योग करने की ग़लती न करें।

साइनस इंफ़ेक्शन से बचने के उपाय
– धूल मिट्टी और प्रदूषण वाली जगहों से दूर रहना चाहिए।

– स्मोकिंग नहीं करनी चाहिए और स्मोकिंग करने वालों से दूर रहना चाहिए।

– नाक की गंदगी की नियमित सफाई करनी चाहिए और पानी अधिक पीना चाहिए।

– ठंडी चीज़ें कम खानी चाहिए।

Author: admin

A team work for healthy nature & healthy life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *